Teacher Day Poem in Hindi | शिक्षक दिवस कविता

Teacher Day Poem in Hindi | शिक्षक दिवस कविता हिंदी में

Teacher Day Poem in Hindi | शिक्षक दिवस कविता हिंदी में
Teacher Day Poem in Hindi | शिक्षक दिवस कविता हिंदी में

 

 

 

    Teacher Day Poem in Hindi | शिक्षक दिवस कविता हिंदी में  –   शिक्षक प्रशंसा, कृतज्ञता और प्रशंसा की कविताएँ। एक अतिरिक्त विशेष शिक्षक दिवस के लिए , शिक्षक कविताएँ शिक्षक को मूल्यवान और सम्मानित महसूस कराती हैं।

शिक्षकों के सम्मान में प्रति वर्ष 5 सितम्बर को शिक्षक दिवस मानाया जाता हैं. 5 सितम्बर को डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्ण का जन्म हुआ था. उनकी स्मृति में ही उनके जन्म दिवस को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता हैं. यह एक महान शिक्षक थे. जो भारत के राष्ट्रपति भी बने.

1. Teachers Day Poem in Hindi – ज्ञान का दीपक वो जलाते

 

ज्ञान का दीपक वो जलाते हैं,
माता पिता के बाद वो आते हैं।
माता देती हैं हमको जीवन,
पिता करते हैं हमारी सुरक्षा,
लेकिन जो जीवन को सजाते हैं,
वही हमारे शिक्षक कहलाते है।|
शिक्षक बिना न ज्ञान है,
शिक्षक बिना न मान है,
हमारा जीवन सफल बनाते हैं,
ज्ञान का दीपक वो जलाते हैं।|
जीवन संघर्षो से लड़ना शिक्षक हमे बताते हैं।
सत्य न्याय के पथ पे चलना शिक्षक हमे बताते हैं
ज्ञान का दीपक वो जलाते हैं, माता पिता के बाद वो आते हैं

2.Teachers Day Poem in Hindi – नंबर वन टीचर

(शिक्षक का नाम),

मुझे खुशी है कि आप मेरे शिक्षक हैं;

मैं आपके द्वारा सिखाए गए प्रत्येक पाठ का आनंद लेता हूं।

मेरे आदर्श के रूप में आप मुझे प्रेरित करते हैं

सपने देखना, काम करना और पहुंचना।

अपनी दयालुता से तुम मेरा ध्यान आकर्षित करते हो;

हर दिन आप एक बीज बो रहे हैं

जिज्ञासा और प्रेरणा की

जानना और बढ़ना और सफल होना।

आप मेरी क्षमता को पूरा करने में मेरी मदद करें;

आपने जो कुछ भी किया है उसके लिए मैं आभारी हूं।

मैं हर दिन आपकी प्रशंसा करता हूं, और मैं बस इतना कहना चाहता हूं,

एक शिक्षक के रूप में, आप नंबर एक हैं!

जोआना फुच्स द्वारा

                                          3.Teachers Day Poem in Hindi – मैं चाहूंगा कि आप मुझे पसंद करें

धन्यवाद शिक्षक,

मेरे जीवन का आदर्श बनने के लिए।

जब मैं उस सब पर विचार करता हूं जो आपने मुझे सिखाया है

और इस पर विचार करें कि आप किस प्रकार के व्यक्ति हैं,

मैं चाहूंगा कि आप मुझे पसंद करें-

स्मार्ट, दिलचस्प और आकर्षक,

सकारात्मक, आत्मविश्वासी, फिर भी स्पष्टवादी।

मैं चाहूंगा कि आप मुझे पसंद करें-

अच्छी तरह से सूचित और समझने में आसान,

अपने दिल के साथ-साथ अपने दिमाग से भी सोचो,

हमें अपना सर्वश्रेष्ठ करने के लिए धीरे से प्रेरित करना,

संवेदनशीलता और अंतर्दृष्टि के साथ.

मैं चाहूंगा कि आप मुझे पसंद करें-

अपना समय, ऊर्जा और प्रतिभा दे रहे हैं

यथासंभव उज्ज्वल भविष्य सुनिश्चित करने के लिए

हम में से प्रत्येक के लिए.

धन्यवाद शिक्षक

मुझे शूट करने के लिए एक लक्ष्य देने के लिए:

मैं चाहूंगा कि आप मुझे पसंद करें!

जोआना फुच्स द्वारा

4 .Teachers Day Poem in Hindi – मेरा एक भविष्य है

धन्यवाद शिक्षक,

मुझमें गहराई तक पहुँचने के लिए

मैं जो कुछ भी हो सकता हूं उसे पा सकूं

इससे पहले कि मैं इसे स्वयं देख सकूं.

तुमने कभी मेरा साथ नहीं छोड़ा.

मेरा एक भविष्य है

आपके कारण।

 

5.Teachers Day Poem in Hindi – शिक्षकों की

शिक्षक हमारे दिमाग खोलते हैं,

हमें चमत्कार दिखा रहे हैं

बौद्धिक किस्म का.

वे हमें मानवीय बनाते हैं,

अपार प्रेम के कारण,

और उनका ज्ञान मुख्य है.

वे हमारी परवाह करते हैं और हमें मजबूत बनाते हैं,

और हमें इस दुनिया में ले चलो,

हमें कोई गलत काम न करने के लिए मार्गदर्शन करना।

शिक्षक हमें धीरे से धक्का देते हैं

पूर्णता और अधिक ऊंचाइयों तक,

लक्ष्यों को सफलतापूर्वक प्राप्त करने में हमारी सहायता करें.

उन सबके लिए जो वे करते और कहते हैं,

आज शुभकामना देते हुए मुझे गर्व महसूस हो रहा है

शिक्षक दिवस की मुबारक!

 

                                                                    6. Poem on Teacher in Hindi – गुरु आपकी ये अमृत वाणी

 

गुरु आपकी ये अमृत वाणी
हमेशा मुझको याद रहे।
जो अच्छा है जो बुरा है
उसकी हम पहचान करे।
मार्ग मिले चाहे जैसा भी
उसका हम सम्मान करे।
दीप जले या अँगारे हो
पाठ तुम्हारा याद रहे।
अच्छाई और बुराई का
जब भी हम चुनाव करे।
गुरु आपकी ये अमृत वाणी
हमेशा मुझको याद रहे।।

सुजाता मिश्रा

Teacher Day Poem in Hindi | शिक्षक दिवस कविता हिंदी में

 

 

                                                             7.Teachers Day Poem in Hindi – बच्चों के भविष्य को

 

बच्चों के भविष्य को,

शिक्षक सज़ा है.

ज्ञान के प्रकाश को,

शिक्षक जलाता है.

सही-गलत के फर्क को,

शिक्षक बताते हैं।

विद्यार्थियों को सही शिक्षा,

शिक्षक ही दे पाता है।

मूलांक पर शिष्य को,

शिक्षक ही बदलता है।

बच्चों के भविष्य में,

और नवीनता प्रस्तुत है।

विद्यार्थी को कभी शिक्षक,

कोई ढिलाई निर्माण नहीं है।

मिलते हैं जब कार्य में,

अफसोस जताता है.

शिक्षक ही समाज का,

उत्तम जो जाना जाता है।

शम्भू नाथ

                                                            8.Teachers Day Poem in Hindi – विद्या देते दान गुरुजी

 

विद्या देते दान गुरुजी।

हर लें अज्ञान गुरुजी ॥

अक्षर अक्षर हमें सिखाते हैं।

शब्द का अर्थ अर्थ शब्द।

कभी प्यार से कभी प्यार से,

हमको देते हैं ज्ञान गुरूजी ॥

जुड़ा हुआ परमाणु अणु ।

प्रश्न गणित के हल करवाते ॥

हरसंभव को ठीक बनाना,

पकड़ो हमारे गुरुजी ॥

धरती का भूगोल वैज्ञानिक।

इतिहासों की कहानियाँ सुनाते ॥

क्या कब क्यों होता है,

समझाते विज्ञान गुरूजी ॥

खेल खेलते गीत गावते।

कभी पढ़ते कभी लिखते ॥

अच्छे और बुरे की हमको,

करवाते पहचान गुरुजी ॥

शिव नारायण सिंह

                                                           9.Teachers Day Poem in Hindi – चुनौतियों से लड़कर जो

 

चुनौतियों से लड़कर जो
हमें आगे बढ़ना सिखाते हैं
वह शिक्षक कहलाते हैं

हर कदम पर जो सफलता
का नया मार्ग दिखाते हैं
वह शिक्षक कहलाते हैं

सही और गलत की जो
पहचान कराते हैं
वह शिक्षक कहलाते हैं

भाग्य के भरोसे ना बैठे हो
जो हमें मेहनत करना सिखाते हैं
वह शिक्षक कहलाते हैं

जान के दीप जला
जो हमें संस्कार सिखाते हैं
वह शिक्षक कहलाते हैं..!

                                                                                         कोरे कागज को अखबार बनाता है

कोरे कागज को अखबार बनाता है
गुरु को जिंदगी का हर हिसाब आता है

रंग-बिरंगे फूलों से वो
संसार को एक सुंदर बाग बनाता है
वही तो है जो तारों को भी रोशनी देकर
खुद सूरज बनकर जगमगाता है

नटखट शैतान बच्चों की
लाख शैतानियां सहता है
फिर भी गुरु धैर्यवान रहता है

ज्ञान की एक एक बूंद से
सिंचता है वो अपनी फसल
तभी तो शिष्य अभी अर्जुन
कभी राम बनकर परचम लहराता है

मां बाप को जन्म देते हैं
गुरु ही इंसान बनाता है
सच ही तो है कोरे कागज को
किताब बनाता है गुरु को जिंदगी
का हर हिसाब आता है..!

 

                                                                  10.Teachers Day Poem in Hindi – गुरु चरण में स्वर्ण बसे है

 

गुरु चरण में स्वर्ण बसे है
गुरु शरण है धाम हमारे
गुरु आशीष जांकू मिल जाए
जन्म जन्म के भाग सुधारें!

गुरु आदेश मस्तक घर रखो
गुरु सेवा में रैन-दिन जागो
मुख से गुरु शिक्षा गायन हो
गुरु की आज्ञा का पालन हो

मैं करूं चरण धूलि को धारण
चरणों का अमृत पान करूं
शीश झुका कर सहज भाव से
उनके चरणों को प्रणाम करूं

गुरु के कर सर पर जाएं
मैं भवसागर पार जाऊं
वंदन करो गुरु की दिव्यता
मैं कठिन परीक्षा पार पाउं

गुरुवाणी को निज दोहराऊं
गुरु की महिमा नित नित गाऊ
मोहे मिले चाकरी गुरु सेवा की
गुरु को पूज के मैं तर जाऊ..!

11.Teachers Day Poem in Hindi – शिक्षक दिवस (टीचर्स डे) हिंदी कविता पर

कुछ चार बार का ही था मैं

जब पहली बार स्कूल गया

किसी ने मेरा हाथ थामा

लगा जैसे माँ आ गयी

क्या होता है गुरु?

उस दिन ही मैं जाना था,

संपूर्ण मन, वचन, कर्म से

अपना भगवान माना जाता था।

गुरु ही तो वह बाती है

खुद जलकर लाइटहाउस है

अपनी मेधा के बल पर

छात्रों का भविष्य बनता है।

हमारी नौकरानी क्या है?

हमें समझ में आता है।

सुधार करने का एक अवसर देता है

फिर स्वयं भी उसे बताता है।

लाभ का एक दीपक जलाता

मुश्किलों में साथ निभाना है

तुम कर सकते हो हर बार यही बातलाता।

नमन करता हूँ मैं उन मुस्लिमों से

कुछ मुझे बनाया है

मैं कौन हूं और क्या हूं

मेरा परिचय दस्तावेज़ है।

दोस्तों, यदि इस पोस्ट में आपका अपना कोई विचार या सुझाव है, या कोई सुझाव, कोई बदलाव या कोई गलती है, तो कृपया हमें बताएं। इसके लिए आपकी कमेन्ट महत्वपूर्ण हैं, आपकी प्रतिक्रिया हमें नए विषय लिखने के लिए प्रोत्साहित करती है।

धन्यवाद । 

हमारी अन्य पोस्ट 

 

 

Leave a Comment